Ad1

Results for दृष्टि योग

S266, महर्षि मेंहीं pravachan/तीसरा तिल,शिव नेत्र या दिव्य चक्षु का रास्ता कौन बतावेगा

महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा सागर" / 266        प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं...
- 11/13/2018
S266, महर्षि मेंहीं pravachan/तीसरा तिल,शिव नेत्र या दिव्य चक्षु का रास्ता कौन बतावेगा S266, महर्षि मेंहीं pravachan/तीसरा तिल,शिव नेत्र या दिव्य चक्षु का रास्ता कौन बतावेगा Reviewed by सत्संग ध्यान on 11/13/2018 Rating: 5

S494, Important-discourse।।दृष्टियोग और नादानुसंधान ? -महर्षि मेंहीं

महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा सागर" /  494       प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं...
- 9/06/2018
S494, Important-discourse।।दृष्टियोग और नादानुसंधान ? -महर्षि मेंहीं S494, Important-discourse।।दृष्टियोग और नादानुसंधान ?  -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 9/06/2018 Rating: 5

S413, संत हों या उपदेशक- कर्मों के अनुसार गति सबकी -महर्षि मेंहीं

महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा सागर" /  413       प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं...
- 8/19/2018
S413, संत हों या उपदेशक- कर्मों के अनुसार गति सबकी -महर्षि मेंहीं S413, संत हों या उपदेशक- कर्मों के अनुसार गति सबकी -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 8/19/2018 Rating: 5

S266, (क) विविध नामों के साथ दृष्टियोग और नादानुसंधान की चर्चा -महर्षि मेँहीँ

       महर्षि मेंही सत्संग सुधा सागर/266     प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतम...
- 8/07/2018
S266, (क) विविध नामों के साथ दृष्टियोग और नादानुसंधान की चर्चा -महर्षि मेँहीँ S266, (क) विविध नामों के साथ दृष्टियोग और नादानुसंधान की चर्चा -महर्षि मेँहीँ Reviewed by सत्संग ध्यान on 8/07/2018 Rating: 5

S250, (ख) मैं ईश्वर भक्ति कराकर,देश की जड़ को मजबूत करता हूं । -महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 7/28/2018
S250, (ख) मैं ईश्वर भक्ति कराकर,देश की जड़ को मजबूत करता हूं । -महर्षि मेंहीं S250, (ख) मैं ईश्वर भक्ति कराकर,देश की जड़ को मजबूत करता हूं । -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 7/28/2018 Rating: 5

S63, (ख) ध्यान योग करें या हठयोग+सिद्धि-शक्ति का महत्व -सद्गुरु महर्षि मेंही प्रवचन

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 7/19/2018
S63, (ख) ध्यान योग करें या हठयोग+सिद्धि-शक्ति का महत्व -सद्गुरु महर्षि मेंही प्रवचन S63, (ख) ध्यान योग करें या हठयोग+सिद्धि-शक्ति का महत्व -सद्गुरु महर्षि मेंही प्रवचन Reviewed by सत्संग ध्यान on 7/19/2018 Rating: 5

S63, (क) ध्यान योग करें या हठयोग+सिद्धि-शक्ति का महत्व -सद्गुरु महर्षि मेंही प्रवचन

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 7/19/2018
S63, (क) ध्यान योग करें या हठयोग+सिद्धि-शक्ति का महत्व -सद्गुरु महर्षि मेंही प्रवचन S63, (क) ध्यान योग करें या हठयोग+सिद्धि-शक्ति का महत्व -सद्गुरु महर्षि मेंही प्रवचन Reviewed by सत्संग ध्यान on 7/19/2018 Rating: 5

S424, ध्यान के फायदे, ईश्वर भक्ति और चमत्कार, ध्यान की बातें --महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 7/18/2018
S424, ध्यान के फायदे, ईश्वर भक्ति और चमत्कार, ध्यान की बातें --महर्षि मेंहीं S424, ध्यान के फायदे, ईश्वर भक्ति और चमत्कार, ध्यान की बातें --महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 7/18/2018 Rating: 5

S73, ध्यान कैसे करें? बिंदु ध्यान कैसे करें? ध्यान की महिमा -महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 7/07/2018
S73, ध्यान कैसे करें? बिंदु ध्यान कैसे करें? ध्यान की महिमा -महर्षि मेंहीं S73, ध्यान कैसे करें?  बिंदु ध्यान कैसे करें? ध्यान की महिमा -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 7/07/2018 Rating: 5
S05, (ग) Only man can achieve salvation--महर्षि मेंहीं प्रवचन S05, (ग) Only man can achieve salvation--महर्षि मेंहीं प्रवचन Reviewed by सत्संग ध्यान on 7/06/2018 Rating: 5

S198, (ख) गीता के अनुसार भगवान की शरण में कैसे जाएं। -महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 7/03/2018
S198, (ख) गीता के अनुसार भगवान की शरण में कैसे जाएं। -महर्षि मेंहीं S198, (ख) गीता के अनुसार भगवान की शरण में कैसे जाएं। -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 7/03/2018 Rating: 5

S385, नासाग्र का सही स्वरूप और बिंदु ध्यान कैसे करें -महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंही...
- 6/29/2018
S385, नासाग्र का सही स्वरूप और बिंदु ध्यान कैसे करें -महर्षि मेंहीं S385, नासाग्र का सही स्वरूप और बिंदु ध्यान कैसे करें -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 6/29/2018 Rating: 5

S228, (ख) ईश्वर भक्ति में दृष्टि योग कैसे करें ? -महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 6/27/2018
S228, (ख) ईश्वर भक्ति में दृष्टि योग कैसे करें ? -महर्षि मेंहीं S228, (ख) ईश्वर भक्ति में दृष्टि योग कैसे करें ? -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 6/27/2018 Rating: 5

S228, (क) ईश्वर भक्ति में दृष्टि योग कैसे करें ? -महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 6/27/2018
S228, (क) ईश्वर भक्ति में दृष्टि योग कैसे करें ? -महर्षि मेंहीं S228, (क) ईश्वर भक्ति में दृष्टि योग कैसे करें ? -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 6/27/2018 Rating: 5

S477, बिंदु ध्यान का यथार्थ रूप और ईश्वर-भक्ति व इष्टदेव और कर्मफल -महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 6/14/2018
S477, बिंदु ध्यान का यथार्थ रूप और ईश्वर-भक्ति व इष्टदेव और कर्मफल -महर्षि मेंहीं S477, बिंदु ध्यान का यथार्थ रूप और ईश्वर-भक्ति व इष्टदेव और कर्मफल -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 6/14/2018 Rating: 5

S478, ईश्वर का स्वरूप और साधना में विंदु ध्यान की बातें -महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 6/14/2018
S478, ईश्वर का स्वरूप और साधना में विंदु ध्यान की बातें -महर्षि मेंहीं S478, ईश्वर का स्वरूप और साधना में विंदु ध्यान की बातें -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 6/14/2018 Rating: 5

S272, (ख) शांति प्राप्ति के उपाय व ईश्वर-भक्ति से ही कल्याण --महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 5/24/2018
S272, (ख) शांति प्राप्ति के उपाय व ईश्वर-भक्ति से ही कल्याण --महर्षि मेंहीं S272, (ख) शांति प्राप्ति के उपाय व ईश्वर-भक्ति से ही कल्याण --महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 5/24/2018 Rating: 5

S272, (क) शांति प्राप्ति के उपाय व ईश्वर-भक्ति से ही कल्याण --महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 5/24/2018
S272, (क) शांति प्राप्ति के उपाय व ईश्वर-भक्ति से ही कल्याण --महर्षि मेंहीं S272, (क) शांति प्राप्ति के उपाय व ईश्वर-भक्ति से ही कल्याण --महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 5/24/2018 Rating: 5

S335, (क) सभी संतों की बात मानते हुए, ईश्वर की असली भक्ति करें -महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 5/12/2018
S335, (क) सभी संतों की बात मानते हुए, ईश्वर की असली भक्ति करें -महर्षि मेंहीं S335, (क) सभी संतों की बात मानते हुए, ईश्वर की असली भक्ति करें -महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 5/12/2018 Rating: 5

S356, जहां बिंदु और नाद की उपासना नहीं होती है, वह संतमत नहीं है।-महर्षि मेंहीं

प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं ...
- 5/03/2018
S356, जहां बिंदु और नाद की उपासना नहीं होती है, वह संतमत नहीं है।-महर्षि मेंहीं S356, जहां बिंदु और नाद की उपासना नहीं होती है, वह संतमत नहीं है।-महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 5/03/2018 Rating: 5

संतमत और बेदमत एक है, कैसे? अवश्य जाने

     प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-सद्गुरु महर्षि मेंही परमहंस जी महाराज ने यह सि...

Ad

Blogger द्वारा संचालित.