Ad1

S31, Saint Sumeru Kabir Sahib's glory and ours work satsang dhyan --सदगुरु महर्षि मेंहीं

महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा सागर" /31

      प्रभु प्रेमियों ! संतमत सत्संग के महान प्रचारक सद्गुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज के भारती (हिंदी) प्रवचन संग्रह "महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा सागर" के प्रवचन नंबर 31 वां, भारत देश के, बिहार राज्य के सहरसा जिलांतर्गत, संतमत सत्संग बिशेषाधिवेशन में आयोजित संतमत सत्संग कार्यक्रम में दिनांक- 09-11-1952 ई. को खापुर ग्राम में प्रात: काल  हुआ था। --पूज्यपाद स्वामी श्री संतसेवी जी महाराज   ।
इस संतमत प्रवचन में आप जानेंगे--अपना काम,अपना काम स्वयं करो, सत्संग का महत्व क्या है, सत्संग की महिमा, पढ़े नारद की कथा,सत्संग क्या है जीवन में सत्संग का महत्व,संतों-भक्तों के सुमेरु संत कबीर महाराज,संतमाला के सुमेरु,संतों की जानकारी, संतों की परिभाषा,संतों का जीवन,भारत के प्रमुख संत,संतों की वाणी,भारत के सच्चे संत,संत परंपरा,ध्यान (योग),dhyan me kya hota hai,dhyan kya hai,dhyan ke fayde in hindi,dhyan kaise kare  आदि के बारे में

S31,   Saint Sumeru Kabir Sahib's glory  and ours work satsang dhyan --सदगुरु महर्षि मेंहीं.  Saint Kabir Sahib's glory
Saint Kabir Sahib's glory

Saint Sumeru Kabir Sahib's glory  and ours work satsang dhyan

सदगुरु महर्षि मेंहीं परमहंस जी महाराज कहते हैं कि--संत के भजन में लय और बाजा का महत्व क्या है। संत कबीर साहब संतों की माला में  सुमेरू क्यों हैं ?  आत्म ज्ञान क्या है?  अपना काम क्या है ? कोई भी बड़ा काम करने में कठिन होता है, लेकिन करते-करते सरल हो जाता है । बडे बडे़ काम करना जरूरी भी है।  इससे प्रतिष्ठा मिलती है। प्रतिष्ठावान होकर रहना चाहिए। ईश्वर भजन करना अपना काम है, इसे अवश्य करना चाहिए। इन बातों को बिशेष रूप से जानने के लिए इस प्रवचन को पूरा पढें--
S31,   Saint Sumeru Kabir Sahib's glory  and ours work satsang dhyan --सदगुरु महर्षि मेंहीं. अपना काम और संत कबीर साहब प्रवचन चित्र एक
 अपना काम और संत कबीर साहब प्रवचन चित्र 1

S31,   Saint Sumeru Kabir Sahib's glory  and ours work satsang dhyan --सदगुरु महर्षि मेंहीं. अपना काम और संत कबीर साहेब प्रवचन चित्र दो
 अपना काम और संत कबीर साहब प्रवचन चित्र दो

S31,   Saint Sumeru Kabir Sahib's glory  and ours work satsang dhyan --सदगुरु महर्षि मेंहीं. अपना काम और संत कबीर साहब प्रवचन चित्र 3
 अपना काम और संत कबीर साहब प्रवचन चित्र 3

S31,   Saint Sumeru Kabir Sahib's glory  and ours work satsang dhyan --सदगुरु महर्षि मेंहीं. अपना काम और संत कबीर साहब प्रवचन समाप्त
 अपना काम और संत कबीर साहब प्रवचन समाप्त

प्रभु प्रेमियों ! गुरु महाराज के इस प्रवचन का पाठ करके आपलोगों ने जाना कि अपना काम,अपना काम स्वयं करो, सत्संग का महत्व क्या है, सत्संग की महिमा, पढ़े नारद की कथा आदि बारे में। इतनी जानकारी के बाद भी अगर आपके मन में किसी प्रकार का संका या कोई प्रश्न है, तो हमें कमेंट करें। इस प्रवचन के बारे में अपने इष्ट मित्रों को भी बता दें, जिससे वे भी लाभ उठा सकें। सत्संग ध्यान ब्लॉग का  सदस्य बने। इससे आपको आने वाले प्रवचन या पोस्ट की सूचना नि:शुल्क मिलती रहेगी। उपर्युक्त प्रवचन का पाठ निम्न वीडियो में किया गया है।


आप इस पूरी पुस्तक 'महर्षि मेंहीं सत्संग सुधा सागर' को डाउनलोड करना या ऑनलाइन खरीदना चाहते हैं या संतमत के अन्य साहित्यों के सहित गुरु महाराज के सभी साहित्यों को ऑनलाइन खरीदना चाहते हैं तो  यहां दबाएं।
जय गुरु।

S31, Saint Sumeru Kabir Sahib's glory and ours work satsang dhyan --सदगुरु महर्षि मेंहीं S31,   Saint Sumeru Kabir Sahib's glory  and ours work satsang dhyan --सदगुरु महर्षि मेंहीं Reviewed by सत्संग ध्यान on 9/26/2019 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

प्रभु प्रेमियों! कृपया वही टिप्पणी करें जो सत्संग ध्यान कर रहे हो और उसमें कुछ जानकारी चाहते हो अन्यथा जवाब नहीं दिया जाएगा।

संतमत और बेदमत एक है, कैसे? अवश्य जाने

     प्रभु प्रेमियों ! सत्संग ध्यान के इस प्रवचन सीरीज में आपका स्वागत है। आइए आज जानते हैं-सद्गुरु महर्षि मेंही परमहंस जी महाराज ने यह सि...

Ad

Blogger द्वारा संचालित.